Dr. APJ Abdul Kalam Essay in Hindi – एपीजे अब्दुल कलाम पर निबंध

ए पी जे अब्दुल कलाम भारत के पूर्व राष्ट्रपति, परमाणु वैज्ञानिक एवं मिसाइल मैन के नाम से प्रसिद्ध थे। अबुल पाकिर जैनुला अबदिन अब्दुल कलाम अथवा ए. पी. जे. अब्दुल कलाम को मिसाइल मैन और जनता के राष्ट्रपति के नाम से जाना जाता है। वे भारतीय गणतंत्र के 11वें निर्वाचित राष्ट्रपति थे। वे भारत के पूर्व राष्ट्रपति, जाने माने वैज्ञानिक और अभियंत ( इंजीनियर) के रूप में भी विख्यात थे।

तो चलिए महान वैज्ञानिक और पूर्व राष्ट्रपति ए. पी. जे. अब्दुल कलाम के जीवन और उनकी उपलब्धियों के बारे में बेहद सरल और आसान भाषा में अभिनय शब्द सीमा से इस निबंध को उपलब्ध कराते हैं।

About Abdul Kalam in Hindi

ए. पी. जे. अब्दुल कलाम लोकप्रिय ” मिसाइल मैन ऑफ इंडिया ” के नाम से जाना जाता है ! वह लोकप्रिय नागरिक पुरस्कार ” भारत रत्न ” को भी प्राप्त किए हैं। वह 15 अक्टूबर 1931 को तमिलनाडु के रामाश्रम मैं एक मध्यम वर्ग के परिवार में जन्म लिए थे। गरीब होने के कारण उन्हें अपने बचपन में मूलभूत सुविधाओं से वंचित किया गया था। लेकिन फिर भी वे भविष्य में सबसे उल्लेखनीय वैज्ञानिक और भारत के 11वें राष्ट्रपति बने।

उनका जीवन इतिहास बहुत उत्साहजनक और कई लोगों के लिए प्रेरक है ! ए. पी. जे. अब्दुल कलाम भारत को मजबूत और समृद्ध राष्ट्र बनाने के लिए एक महत्वपूर्ण दृढ़ संकल्प लिए थे। वह ‘ सरल जीवन और उच्च विचार ‘ के लिए सही उदाहरण है। उनके नेतृत्व में भारत ने पहला सैटेलाइट लॉन्चिंग वाहन – एस एल बी – 3 तैयार किया गया था ! इसके अलावा भी उनके क्षेत्र में महान उपलब्धि करवाने वाला ” पृथ्वी, ए जी एन आई, आकाश और त्रिशूल ” जैसे मिसाइलें भी थी।

APJ Abdul Kalam Essay in Hindi

Christmas Essay in Hindi | National Emblem of India in Hindi  | Soil Pollution in Hindi

Short Essay on APJ Abdul Kalam in Hindi

अब्दुल कलाम को जनसाधारण में डॉक्टर ए पी जे अब्दुल कलाम के रूप में जाना जाता है। भारतीय लोगों के दिलों में वह ” जनता के राष्ट्रपति ” और ” भारत के मिसाइल मैन ” के रूप में हमेशा जीवित रहेंगे। वास्तव में वह एक महान वैज्ञानिक थे, जिन्होंने बहुत सारे चीजों का आविष्कार किए है ! वह भारत के एक पूर्व राष्ट्रपति थे। उनका जन्म 15 अक्टूबर 1931 में हुआ एवं उनका निधन 27 जुलाई 2015 में हुआ था ! उनका मृत्यु मेघालय के शिलांग में हुआ था।

कलाम के पिता का नाम जैनुलाब्दीन और मां का नाम आशी अम्मा था। एवं कलाम का पूरा नाम अबुल पाकिर जैनुलाब्दीन अब्दुल कलाम था ! वह जीवन भर अविवाहित रहे। कलाम एक महान इंसान थे जिन्हें भारत रत्न ( 1997 मैं), पद्म विभूषण ( 1990 मैं) , पद्मभूषण( 1981 ), इंदिरा गांधी राष्ट्रीय एकता पुरस्कार 1997 ), रामानुजन अवॉर्ड ( 2000), किंग्स चार्ल्स द्वितीय मेडल ( 2007 ), इंटरनेशनल बोन अरमान विंग्स अवार्ड ( 2009 ), हु आर मेडल ( 2009 ), आदि से सम्मानित किया गया था।

APJ Abdul Kalam Essay in Hindi in 300 Words

वास्तव में डॉ ए पी जे अब्दुल कलाम देश के सभी युवाओं के लिए एक सच्चे दिग्गज थे। वे अपने पूरे जीवन कार्य और लेखन के माध्यम से ही नई पीढ़ी को हमेशा प्रेरणा दी है। वह महान वैज्ञानिक थे और बेमानीक इंजीनियर भी थे, जो बहुत निकटता से भारत के मिसाइल कार्यक्रमों से जुड़े हुए थे। बाद में उन्होंने राष्ट्रपति के रूप में 2002 से लेकर 2007 तक देश को अपने बहुमूल्य सेवा भी प्रदान किए थे।

उनके शिक्षा की अगर बात किया जाए तो वह मद्रास इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी से ग्रेजुएशन करने के बाद वह रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन से जुड़ गए थे। अब्दुल कलाम ने एक महान अंतरिक्ष वैज्ञानिक विक्रम अंबालाल साराभाई ( भारत के अंतरिक्ष कार्यक्रमों के पिता ) के सानिध्य में कार्य किया था। बाद में 1969 में कलाम भारत के पहले स्वदेशी उपग्रह प्रक्षेपास्त्र, एसएलबी तृतीय के प्रोजेक्ट निर्देशक बने थे।

वह महान व्यक्ति थे उनकी मृत्यु अचानक हृदय गति रुक जाने के कारण 27 जुलाई 2015 को आई आई एम मेघालय में अपनी आखिरी सांससे लेकर प्राण त्याग दिए थे , वह शारीरिक रूप से भले ही हमारे बीच में मौजूद नहीं है, लेकिन फिर भी उनके देश के लिए किए गए महान कार्य और योगदान हमेशा हमारे साथ रहेंगे। वे अपने किताब ” भारत 2020 – नव निर्माण की रूपरेखा ” मैं, उन्होंने भारत को एक विकसित देश बनाने के लिए अपने सपनों को उल्लेखित किया था।

APJ Abdul Kalam Essay in Hindi under 500 Words

डॉ ए. पी. जे. अब्दुल कलाम एक महान भारतीय वैज्ञानिक थे। जिसने भारत के 11वें राष्ट्रपति के रूप में 2002 वर्ष से 2007 तक देश की सेवा की है। वह भारत के सबसे प्रतिष्ठित व्यक्ति थे, क्योंकि एक वैज्ञानिक और राष्ट्रपति के रूप में देश के लिए उन्होंने बहुत बड़ा योगदान दिया था। ‘इसको’ के लिए दिया गया उनका योगदान अविस्मरणीय है। बहुत सारे प्रोजेक्ट को भी उनके नेतृत्व के द्वारा दिया गया था, जैसे की रोहिणी 1 का लांच, प्रोजेक्ट डेविल और प्रोजेक्ट वेलियंट, मिसाइलों का विकास ( अग्नि और पृथ्वी ) आदि।

भारत के परमाणु शक्ति को सुधारने में उनके महान योगदान के लिए उन्हें “भारत का मिसाइल मैन” भी कहा जाता है। अपने समर्पित कार्य के लिए ही उन्हें भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान “भारत रत्न” से नवाजा गया था। भारत के राष्ट्रपति के रूप में अपने कार्यकाल के पूरा होने के उपरांत डॉक्टर कलाम ने विभिन्न कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में एक अतिथि प्रोफेसर के रूप में भी देश की सेवा की थी।

Biography of APJ Abdul Kalam in Hindi ( APJ Abdul Kalam Essay in Hindi )

कलाम का जन्म 15 अक्टूबर 1931 को रामेश्वरम में हुआ था। कलाम के पिता मुस्लिम धर्म से थे, और वे बहुत ही गरीब व्यक्ति थे। इसलिए उन्होंने बचपन में अखबार के लड़के के रूप में भी काम किए थे। उन्हें अपने और अपनी परिवार के लिए आय को बढ़ाने की जरूरत पड़ी, जिस कारण वे सुबह समाचार पत्रों को वितरित किया करते थे एवं अन्य ऐसी कई सारी नौकरी भी किए थे।

वह गंभीरता से शिक्षित होना चाहते थे। लेकिन वह केवल एक औषत छात्र ही थे, फिर भी वह अपने मेहनत और इमानदारी के साथ गंभीर प्रयास किए और भौतिकी की डिग्री को पारित कर दिया। फिर उन्होंने एयरोस्पेस इंजीनियरिंग में भाग लिया और उसे भी पूरा किया। साहस और कड़ी मेहनत के साथ उन्होंने बहुत सी कठिनाइयों का सामना किया था।

इसके बाद ए पी जे अब्दुल कलाम डीआरडीओ में शामिल हो गए और फिर उनके जीवन एक नए चरण में बदल गया। उन्होंने सफलता के साथ परियोजनाओं का प्रबंधन किया, वह सभ्य आदमी, टेक्नोक्रेट और एक अच्छे प्रबंधक की तुलना में एक शुद्ध वैज्ञानिक थे। उनके पास राजनीति और प्रभावशाली व्यक्तियों का समर्थन भी था।

प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी और अन्य मंत्रियों ने उन्हें विभिन्न परियोजनाओं के लिए प्रोत्साहित किया था। मिसाइलों पर उनकी भूमिका के लिए उन्हें समर्थन भी मिली। वह प्रधानमंत्री के सलाकार बने। वह राजनीति और प्रौद्योगिकी की में शामिल हो गए। वह भारत और दुनिया भर में सभी पक्षों के सम्मान प्राप्त करने का यज्ञ व्यक्ति है।

ए पी जे अब्दुल कलाम राष्ट्रपति बन गए, क्योंकि वह एक गैर विवादास्पद, यज्ञ और सुशिक्षित थे। वह अपने जीवन में शादी नहीं की थी , उन्होंने अपने गरीब परिवार के सदस्यों को समर्थन देने के लिए राष्ट्र को ही अपना जीवन समर्पित कर दिए थे। विज्ञान और प्रौद्योगिकी मिशन की प्रगति ( विशेष रूप से रक्षा में ) उन्होंने युवा छात्रों को कई प्रेरक व्याख्यान और पाठ दिए है ! बच्चों के लिए कुछ पुस्तकों में उनके बारे में सबक भी दिए गए है। निश्चित रूप में अगर देखा जाए तो डॉ कलाम भारत के सबसे बड़े वैज्ञानिक थे। रक्षा और अनुसंधान क्षेत्र में उनके महत्वपूर्ण योगदान के लिए उन्हें हमेशा याद रखा जाएगा।

APJ Abdul Kalam Biography in Hindi

1) ए पी जे अब्दुल कलाम का जन्म दक्षिण भारतीय राज्य के तमिलनाडु के रामेश्वरम में हुआ था।

2) पैसे से नाभिक कलाम के पिता ज्यादा पढ़े-लिखे नहीं थे! ये मछुआरों को नाउ किराए पर देते थे। पांच भाई और पांच बहनों वाले परिवार को चलाने के लिए पिता के पैसे कम पड़ जाते थे। इसीलिए शुरूआती शिक्षा जारी रखने के लिए कलाम को अखबार बेचने का काम करना पड़ा था।

3) 8 साल की उम्र से ही कलाम सुबह 4:00 बजे उठते थे और नहा धोकर गणित की पढ़ाई करने के लिए चले जाते थे। सुबह नहा कर जाने के पीछे का कारण यह था कि प्रत्येक साल 5 बच्चों को मुफ्त में गणित पढ़ाने वाले उनके टीचर बिना नहाए आए बच्चों को नहीं पढ़ाते थे।

4) ट्यूशन से आने के बाद वह नमाज पढ़ते थे, और इसके बाद वह सुबह 8:00 बजे तक रामेश्वरम रेलवे स्टेशन और बस अड्डे पर न्यूज़पेपर बांटते थे।

5) भारत के सर्वोच्च पर नियुक्ति से पहले भारत रत्न पाने वाले कलाम देश के केवल तीसरे राष्ट्रपति ही है। उनकी मेहनत ही उन्हें इस मुकाम पर पहुंचा दिए ! उनसे पहले यह मुकाम सर्वपल्ली राधाकृष्णन और जाकिर हुसैन ने हासिल किया था।

इसके अलावा भी उन्होंने अपने देश के लिए और भी कई सारे कार्य करके गए हैं। उनके विषय में जितना भी बात किया जाए उतना कम ही पड़ जाएगा।

हम आशा करते हैं कि हमारे द्वारा लिखा गया APJ Abdul Kalam Essay in Hindi को पढ़कर आप पसंद करेंगे। अगर आपको APJ Abdul Kalam Essay in Hindi अच्छा लगा हो तो अपने सोशल मीडिया पर शेयर जरूर करें और कमेंट के माध्यम से हमें जरूर बताएं।

धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *