About Hen in Hindi – मुर्गी के बारे में रोचक तथ्य

About Hen in Hindi

मुर्गी भारत में पाया जाने वाला एक ऐसा पक्षी है जो आकार में अन्य पक्षियों से थोड़ा सा बड़ा होता है। इसके 2 पैर होते हैं, य दो पैर पर चलता है, और तेजी से दौड़ भी पाता है, मुर्गी के सिर के ऊपर एक कल की सी लगी होती है और उसका रंग लाल रंग की होती है।

Information About Hen in Hindi

मुर्गी ज्यादातर गांव में पाली जाती है। मुर्गी के अंडे बहुत से लोग खाना भी पसंद करते हैं, क्योंकि मुर्गी के अंडे में प्रोटीन पाया जाता है। मुर्गा और मुर्गी में से मुर्गा का आकार बड़ा होता है। मुर्गा का रंग भी मुर्गी के अपेक्षा में चमकीला होता है। मुर्गी 1 दिन में एक या दो अंडे देती है। मुर्गी ज्यादातर लाल और सफेद रंग की होती है। मुर्गी के बच्चे को चूजे के नाम से जाना जाता है।

भारत में प्राचीन काल से ही मुर्गिया पाली जाती है, पहले के जमाने में तो लोग मुर्गे की कुश्ती देख कर बहुत ही खुश हो जाते थे। पहले की जमाने में मुर्गे की कुश्ती बहुत ही प्रसिद्ध थी। आज भी कई सारी जगह पर मुर्गों की कुश्ती होती रहती है। सुबह को मुर्गो और मुर्गी के बांग से सभी का नींद खुल जाती है। मुर्गी अपने भोजन के रूप में अनाज के दाने, कीड़े मकोड़े, आदि खाती है। साथ ही कभी कभी इन्हें सब्जियां भी खाते हुए देखा जाता है। मुर्गी को देखने में बहुत ही प्यारी लगती है ! ग्रामीण इलाकों में मुर्गियों की आवाज ज्यादा सुनाई देती है।

About Hen in Hindi

About Deer in Hindi | About Swan in Hindi | Science and Technology Essay in Hindi

Essay on Hen in Hindi Language ( About Hen in Hindi)

आमतौर पर मुर्गीया दो प्रकार के पाले जाते हैं, और वह है ब्रायलर और देसी मुर्गी। ब्रायलर मुर्गी की अगर बात की जाए तो- ब्रायलर मुर्गी का पालन मांस के लिए किया जाता है, ब्रायलर प्रजाति के मुर्गी या फिर मुर्गा अंडे से निकलने के बाद 40 ग्राम के होते हैं जो फिर धीरे धीरे सही प्रकार के दाना खिलाने के बाद 6 हफ्ते में ही लगभग 1.5 किलो से 2 किलो तक हो जाती है।

दूसरी तरफ देसी मुर्गी की अगर बात की जाए तो- देसी मुर्गी पालन व्यवसाय 1 ऐसा व्यवसाय है, जो अतिरिक्त आए का साधन बनाता है और देश में 25 से 30 लाख लोगों को रोजगार उपलब्ध कराता है। देसी मुर्गी पालन को हम कम पूंजी थोड़ी जमीन एवं थोड़ी सी मेहनत से और आसानी से ही पाल सकते हैं। मुर्गी पालन का चलन भारत में तेजी से बढ़ता जा रहा है। चीन और अमेरिका के बाद भारत अंडा उत्पादन में तीसरे स्थान पर है, और मांस उत्पादन में पांचवी स्थान पर है।

मुर्गी पालन को हम लोग पोल्ट्री फार्मिंग या फिर कुक्कुट पालन भी कहते हैं। मुर्गी पालन मैं अगर सही प्रशिक्षण लेकर व्यवसाय शुरुआत किया जाए तो इस व्यवसाय में ज्यादा लाभ होता है। ब्रायलर की उपेक्षा में देसी मुर्गी का अंडा और मांस का दाम अच्छा मिलता है। देखा जाए तो देसी मुर्गी पालन व्यवसाय तीन चीजों के लिए किया जाता है, और वह है मांस के लिए, अंडो के लिए, और अंडा मांस दोनों के लिए।

बिहार और झारखंड के जलवायु के अनुकूल के ऊपर निर्भर करके यह तीन देसी मुर्गियों की प्रजातियों को ज्यादा पाला जाता है। ग्राम प्रिया, श्रीनिधि, और बन राजा, देसी मुर्गी पालन के लिए यह तीन विकसित प्रजातियां बहुत ही लाभदायक साबित हुई है। आप भी अगर देसी मुर्गी का पालन करना चाहते हैं तो यह 3 प्रजातियों को जरूर अपनाएं।

About Cock in Hindi ( About Hen in Hindi )

1) मुर्गी एक पक्षी है जिसके पंख होते हैं लेकिन या कम ऊंचाई पर थोड़ी समय के लिए ही उड़ पाती है। मुर्गी को अपने पैरों पर चलना ही ज्यादा पसंद है।

2) मुर्गी पालतू पक्षी है जिसको घरों में पाला जाता है। मुर्गी के अंडे और मीट का व्यापार किया जाता है।

3) लोग नर को मुर्गा और मादा को मुर्गी कहते हैं।

4) मुर्गी के अंडा स्वस्थ वर्धक होता है क्योंकि इसमें काफी मात्रा में प्रोटीन होता है।

5) मुर्गी हमेशा एक खास चुनी हुई जगह पर अंडा देती है।

6) मुर्गी रोजाना एक अंडा जरूर देती है ! और कभी कभी दो अंडे भी दे देती है।

7) बच्चों को पैदा करने के लिए मुर्गी अंडे पर बैठती है और अपने शरीर की गर्मी देती है जिससे बच्चे अंडों में से बाहर निकल आती है। मुर्गी के बच्चों को चूजा कहते हैं।

8) एशिया में कई जगहों पर मुर्गों की लड़ाई भी होती है जो काफी पॉपुलर है।

तो दोस्तों आपको ( About Hen in Hindi ) मुर्गी की जानकारी कैसी लगी ! इसके बारे में जरूर बताएं और अगर इस निबंध ( About Hen in Hindi)  को पढ़कर आपको अच्छा लगा हो तो अपने दोस्तों से शेयर करना ना भूले।

धन्यवाद-

About Deer in Hindi – हिरण के बारे में रोचक तथ्य

About Deer in Hindi

हिरण के बारे में कुछ जानकारियां आज इस आर्टिकल में दी गई है। तो चलिए इस विषय में नीचे दिए गए निबंध को पढ़ते हैं।

About Deer in Hindi Language

हिरण ज्यादातर घास के बड़े-बड़े इलाकों में रहने वाला स्तनपाई जीव होते हैं। हिरण संसार भर के सभी महाद्वीपों में पाया जाता है। वह हर वर्ष अपने सिंघो को गिरा देता है और उस जगह नए सिंघो को उग आते हैं। नर हिरण के सींग उसके जन्म के 2 वर्ष के पश्चात विकसित होने लगते हैं। जब प्रजनन की ऋतु आती है तो नर हिरण मादा हिरण को अपने सिंघो से ही आकर्षित करते हैं।

हिरण के टांगे लंबी होती है, जो उन्हें भागने में मदद करती है। हिरन के रंग हल्के भूरे रंग का होता है और कुछ हिरण के शरीर पर छोटी गोल सफेद रंग की झिरिया पाई जाती है। हिरणों की काफी सारी प्रजातियां पाई जाती है जिनके रंग और आकार में ज्यादा फर्क नहीं होता। हिरण की आंखें उसके सिर के एक तरफ किनारों पर होती है, जिस कारण वह 310 डिग्री तक का दृश्य देख सकता है। हिरण की औसत उम्र 18 से 20 वर्ष तक होती है, किंतु ज्यादातर यह शिकारियों द्वारा मार दिए जाते हैं।

About Deer in Hindi

About Swan in Hindi | Science and Technology Essay in Hindi | Speech on Beti Bachao Beti Padhao in Hindi 

Essay on Deer in Hindi Language

भारत की हिरणों की बात की जाए तो, भारतीय हिरण मृग कूल परिवार का सदस्य है, और पृथ्वी पर सबसे सुंदर पशु प्रजाति में से एक है ।भारत में पुरुष हिरण के नामक स्टैग्स, हर्ट स, रुपए या बेल है जो पुरुष हिरण के प्रजातियों पर निर्भर करता है। जिन पर उनका नाम आता है । महिला हिरण की अगर बात की जाए तो य हिंद हिरण की लगभग 34 प्रजातियां में भाग किए जाते हैं। एक्सिस हिरण को चिंत हिरण या स्पा ट डियर के रूप में भी जाना जाता है। और यह भारतीय उपमहाद्वीप में अंतर्गत है। यह भारत में उपलब्ध सबसे व्यापक प्रजाति के हिरण में से एक है। यो हिरण लगभग 3 वर्ष तक रहता है और इस हिरण के 3 उपर प्रजातियां भी होती है। हंग हिरण भारत के उत्तरी भागों में पाए जाते हैं। मंट जैक हिरण बेहद ही नरम होते हैं और उन्हें कक्कड़ हिरण या वर्किंग हिरण भी कहा जाता है। उनकी कॉल एक भोकने वाले कुत्ते के समान होते हैं और इसलिए उन्हें यह नाम दिया गया है।

मस्क हिरण भारत में और दुनिया भर में भी लुप्तप्राय हिरण प्रजातियों में से एक है, सावार हिरण रंग में गहरे और भूरे रंग के होते हैं। एवं इसे छाती पर से चेस्टनट के निशान और शरीर के निचले हिस्से से अलग किया जा सकता है। यह हिरण उनके सुंदर पुतलो के लिए जाने जाते हैं। प्रोरशाम बर हिरण कि अगर बात की जाए तो वह वजन से करीब 300 किलोग्राम के होते हैं। वे जन्म से नहीं दिखाई देती है ! और जन्म के बाद यह धीरे धीरे विकसित होते रहते हैं। दलदल हिरण को बार सिंग हिरण कहते हैं और यह भारतीय उपमहादीप मैं रहते हैं, साथ ही दुनिया में दुर्लभ हिरण प्रजातियों में से यह एक है। वे केबल संरक्षित अभयारण्य में ही देखा जा सकता है।

हिरण ज्यादातर छोटे छोटे पौधे और घास को खाना ज्यादा पसंद करते हैं। सर्दी और गर्मियों में हिरण का भोजन थोड़ा अलग होता है, सर्दियों में हिरण ज्यादातर जालौर शाखाओं को ही ज्यादा खाते हैं, और गर्मियों में यह हरा घास पत्तियां और फूलों को खाना पसंद करता है। मादा हिरण प्रत्येक वसंत ऋतु में बच्चे पैदा करता है। और उनके बच्चे एक या दो घंटों के अंदर ही अपने पैरों पर चलना शुरू कर देते हैं। लगभग 1 वर्ष तक बच्चे अपने मां के साथ रहते हैं।

हिरण ऑस्ट्रेलिया अंटार्कटिका को छोड़कर सभी महाद्वीपों में निवास करते हैं। इसके सुनने की शक्ति बहुत अधिक होती है। उनके कानों मैं ऐसी मांस पेशिया जुड़ी होती है जो उन्हें हर दिशा की छोटी सी आहट भी बिना सिर घुमाए सुनाई देती है। हिरण के सुनने की शक्ति मनुष्य से कहीं अधिक होती है। हिरन रात को भी अच्छे तरह से देख सकता है।

हिरण 40 मील प्रति घंटे की रफ्तार से और 10 फीट तक कूद सकते हैं। यह पानी मैं भी बड़े अच्छे से एवं तेजी से तैर सकता है। इसके सुनने की शक्ति बहुत दूर तक की होती है। ज है शिकारियों से बचाए रखती है। शेर और अन्य जानवरों के इलावा मनुष्य भी हिरण का बहुत बड़ा दुश्मन है। इन जानवरों के लगातार विलुप्त होने का जिम्मेदार कहीं हद तक मनुष्य को ही माना जाता है। इनके सिंघो के लिए लगातार इस जीप का शिकार होता आ रहा है। इनके सिंघो से कई प्रकार की दवाइयां और सजावट के सामान भी तैयार किया जाता है।

इसलिए इस जानवर के प्रति जागरूक होने की जरूरत है। नहीं तो वह दिन दूर नहीं है जब हिरण का नाम सिर्फ किताबों के पन्नों पर ही सिमट कर रह जाएगा। ( About Deer in Hindi )

About Deer in Hindi Language

1) हीरनो 1 स्तनधारी प्राणी है, हिरण ज्यादातर घास के मैदानों में ही पाए जाते हैं।

2) हिरण एक सुंदर प्राणी है जो अपने सुंदर आंखों के कारण जाना जाता है।

3) हिरण के सींग बहुत मजबूत होते हैं, नर हिरण मादा हिरण को अपने सिंघो के द्वारा ही आकर्षित करता है।

4) हिरण की दो आंखें, दो कान, और चार टांगे होती है ! हिरण का रंग हल्का भूरा रंग का होता है  और शरीर पर सफेद रंग के गोल धारिया होती है।

5) हिरण पूर्ण रूप से शाकाहारी प्राणी होती है।

6) मादा हिरण बसंत ऋतु में बच्चे का जन्म देती है जिनकी संख्या एक या दो होती है। जन्म के कुछ ही घंटे बाद हिरण का बच्चा चलने लग जाता है। मादा हिरण को हिरनी भी कहां जाता है।

7) हिरण का बच्चा अपनी मां के साथ पूरे 1 साल तक रहता है, और इस दौरान हिरनी ही उसका ध्यान रखती है।

8) हिरण के दुश्मन शिकारियों में से जिनका नाम सबसे पहले आता है वह है शेर, चिता, बाघ जैसे मांसाहारी जानवर होते हैं। मनुष्य भी हिरणों का बहुत ज्यादा शिकार करता रहता है। हिरन के सिंघो की तस्करी इसके पीछे का सबसे बड़ा कारण है। इसी कारण ही हिरणों की संख्या में लगातार कमी आ रही है।

9) नर हिरणों को Buck कहां जाता है, और माता को Doe कहते हैं। हिरण के बच्चे को Fawn भी कहते हैं।

10 ) हिरन हमेशा झुंड में है मिलता है जिससे herd कहते हैं।

तो दोस्तों हिरण के बारे में यह जानकारियां आपको कैसी लगी और इस आर्टिकल About Deer in Hindi की जानकारियां कैसे लगी जरूर बताइए गा। और अगर अच्छी लगी हो तो  About Deer in Hindi को शेयर जरूर करें।

धन्यवाद-

About Swan in Hindi – हंस के बारे में रोचक तथ्य

About Swan in Hindi

दोस्तों आज हम बात करने वाले हैं हंस पक्षी के बारे में। जिसे पक्षी प्रजातियों में सबसे श्रेष्ठ प्रजाति माना जाता है। इसके अलावा भी हंस माता सरस्वती का वाहन है। हंस बतक से मिलते जुलते जलियां पक्षी होते हैं। तो चलिए अब इसके बारे में विस्तार से जान लिया जाए।

Information About Swan in Hindi

हंस को प्रेम और पवित्रता का प्रतीक माना जाता है। हंस जल में रहने वाला एक बहुत ही खूबसूरत पक्षी होती है। जो की अन्य पक्षियों से बहुत बड़ा भी होता है। पूरे विश्व में हंस की 7 से भी अधिक प्रजातियां पाई जाती है। हंस को अधिकतर सफेद और काले रंग में ही पाए जाते हैं। हंस के पंख बहुत ही मुलायम होते हैं, और उनका व्यास लगभग 3.1 मीटर तक हो सकता है। हंस की गर्दन पतली और लंबी होती है। हंस की औसत आयु 10 वर्षों तक ही होती है। और इसका अधिकतम वजन 12 किलो तक हो सकता है ! हंस स्वभाव से बहुत ही शर्मीली होते हैं । जिस कारण मनुष्य अगर इसके नजदीक में आए तो वह दूर भाग जाते हैं।

About Swan in Hindi

Science and Technology Essay in Hindi | Speech on Beti Bachao Beti Padhao in Hindi | Essay on Demonetisation in Hindi

Essay on Swan in Hindi Language

हंस एक बहुत ही अच्छे पक्षी होता है। इसकी कई प्रजातियां पाई जाती है। देशभर में इसके रंग भी अलग अलग प्रकार के पाए जाते हैं ! हंस की चोंच ज्यादातर लाल रंग के पाए जाते हैं, और तो और इसके बड़े-बड़े पंख भी होते हैं। हंस को ज्यादातर तालाबों में, नदियों में और लहरों में पाया जाता है। हंस सर्वाहारी होते हैं जैसे कि यह बीज, बेरी, कीड़े मकोड़े, और छोटे-छोटे मछलियों को खाते हैं। हंस का मुंह और आंखें उसके शरीर के मुताबिक काफी छोटी होती है। हंस के पैर झाली दार होते हैं जिसमें उन्हें तैरने में सहायता मिलती है। हंस के दांत नहीं होते हैं और इनकी चोंच की बात की जाए तो लाल रंग के अलावा भी नारंगी, केसरी आदि विभिन्न रंगों के पाए जाते हैं।

हंस और हंसिनी जब साथ में विचरण करते हैं तो लोगों को बहुत ही भाता है। हंस और हंसिनी एक साथ विचरण करते समय बहुत ही खूबसूरत लगते हैं। कई तरह के कथाओं में भी हंस के बारे में बताया गया है। लोगों का कहना है कि अगर हंस और हंसिनी में से किसी एक की भी मृत्यु हो जाती है तो हंस या हंसिनी अपना पूरा जीवन अकेले में ही बिता देते हैं। वह जीवन भर सिर्फ एक ही साथी बनाता है। कहते हैं कि इस पक्षी में दूध और पानी को अलग करने की भी क्षमता होती है।

हंस को सरस्वती मां का वाहन भी कहां जाता है। यह सुख और समृद्धि का प्रतीक होती है। मादा हंस एक समय में 5-7 अंडे देती है ! वह सरवर के झाड़ियों के बीच में अंडे देती है। और अंडों की ऊपर ही बैठी रहती है ! हंस के बच्चे अंडे में से 35 से 40 दिन में ही बाहर आ जाती है। हंस की हत्या हिंदू धर्म मैं बहुत बड़ा पाप माना जाता है। हंस कभी भी किसी को भी नुकसान नहीं पहुंचाते हैं, लेकिन यदि कोई उन्हें हानि पहुंचाए तो यह उसका पीछा करता रहता है, और उसे काट देता है।

हंस के बारे में यह बात प्रचलित है की इसका मूल निवास स्थान कैलाश पर्वत के पास स्थित मानसरोवर मैं है। और वे वहां मोती चुभते है ! पर वैज्ञानिक इस बात की पुष्टि नहीं करती है।

Amazing Facts About Swan in Hindi ( Hans Bird )

1) हंस (अंग्रेजी : swan ) एक पक्षी है।

2) हंस पक्षी को प्यार और पवित्रता का प्रतीक माना जाता है।

3) भारतीय साहित्य में इसे बहुत विवेकी पक्षी माना जाता है।

4) ऐसा विश्वास है कि य नीर खीर विवेक से युक्त होता है।

5) इस पक्षी को दांपत्य जीवन के लिए आदर्श माना जाता है।

6) जब कोई व्यक्ति सिद्ध हो जाता है, तब उसे कहते हैं कि इसने हंस पद प्राप्त कर लिया है।

7) जब कोई व्यक्ति समाधि स्थ हो जाता है तो कहते हैं कि वह परमहंस हो गया है।

8) यह पक्षी अपना ज्यादातर समय मानसरोवर में ही बिताते हैं इसके अलावा भी किसी एकांत झील या समुद्र के किनारे में भी समय बिताना पसंद करता है।

9) हिंदू धर्म में हंस को मारना अर्थात पिता, देवता और गुरु को मारने के समान माना जाता है।

10) आध्यात्मिक दृष्टि मनुष्य के नी: स्वास मैं ‘ हं ‘ और स्वास में ‘ स’ ध्वनि सुनाई पड़ती है।

हम आशा करते हैं कि हमारे द्वारा लिखा गया About Swan in Hindi पर य निबंध पर कर आपको जरूर पसंद आया होगा। इसी प्रकार से ( About Swan in Hindi )  हम आपको और भी नए-नए वस्तुओं के ऊपर निबंध देने की आशा करते हैं।

धन्यवाद –

About Parrot in Hindi – तोते के बारे में रोचक तथ्य

Information About Parrot in Hindi

तोता दुनिया के सबसे सुंदर पक्षियों में से एक है। इनकी पंखों की खूबसूरत रंग लोगों को उनके प्रति आकर्षित करता है। तोता दुनिया में कई सारी रंगो के तोते पाए जाते हैं जैसे कि – हरा, लाल, नीला. सफेद, पीला आदि भारत में ज्यादातर हरे रंग का तोता पाया जाता है। यह पक्षी गर्म देशों में ही पाया जाता है। पृथ्वी में तोता पक्षी का 350 से भी ज्यादा प्रजाति पाया जाता है।

तोता एक शाकाहारी होता है। यो हर तराकी फल, पत्तियां,अनाज, और वीजे खाना पसंद करता है । आम और अमरुद जैसे फल तो तोते के विशेष प्रिय होते हैं।  घरेलू तोते सभी चीजें बड़े चाव रे खाहते हैं जो भी हम उन्हें देते हैं । तोता बहुत तेज उड़ते हैं।

तोता के पंजे बहुत ही तेज होते हैं जिसके कारण वे किसी भी चीज को अपने पंजी से आसानी से पकड़ लेते हैं। फिर उसे चोंच से काट – काट कर बड़े मजे से खाते हैं। तोते नकल उतारने में माहिर होते हैं। तोता बार-बार जो भी शब्द सुन लेते हैं उसे आसानी से वलने लगते हैं।ये इंसानी बोली की नकल बड़ी ही आसानी से उतार लेते हैं। इसी कारण लोग तोते की पालना बहुत पसंद करते हैं।

भारत में लोग इन्हें  राम – राम, सीता राम, मिटठू और हरे – हरे जैसे शब्द सिखाते हैं और भी अच्छे-अच्छे शब्द सीखाते हैं।  ये अपनी हरकतों से सभी का मनोरंजन करते हैं।

Information About Parrot in Hindi Language

तोता एक मध्यम आकार का पक्षी है जो ज्यादातर गर्म प्रदेशों में ही पाया जाता है। यह देखने में बहुत ही सुंदर पक्षी होते हैं। इसलिए इसे ज्यादातर घरों में पाल कर रखा जाता है। हमारे देश भारत  में तोता हरे रंग का होता है अन्य देशों में यह सफेद, नीले, सतरंगी, पीला लाल रंगों में भी पाया जाता है। इसकी लंबाई 10 से 12 इंच होती है।

तोता बहुत तेज गति से उड़ सकता है। तोते की आवाज  1 किलोमीटर दूर से ही सुना जा सकता है। तोते एक बुद्धिमान पक्षियों में एक है इसीलिए इसकी सिखाया जाने पर  वे कोई भी भाषा आसनी से बोल सकता है।  Kakapo नामक तोते का वजन इतना ज्यादा है कि वो ठीक से उड़ नहीं पाता है, इसका शिकार जंगली जानवर आसानी से कर लेते हैंइसके कारण एक प्रजाति विलुप्त होने के कगार पर है।

तोते का विज्ञानिक नाम सीटाकयूला कैमरी है। दुनिया के सबसे छोटा तोता का नाम pygmy parrot है।  प्राचीन समय से ही तोते को मनुष्य पलना आ रहा है। तोते का वजन 500 ग्राम से लेकर 1 किलो तक हो सकता है। गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में एक तोते का नाम दर्ज है जो 82 साल तक जिया था। इस तोते का नाम cookie था।

Amazing Facts About Parrot in Hindi

(1) तोता, पक्षियों के सिटैसी(pasittaci) गण के सिटैसिडी(psittacidae)कुल का पक्षी है।

(2) तोता गमै देशों में पाया जाता है।

(3) तोते के पंख सामायतया हरे रंग के होते हैं। इसकी एक लाल रंग की चोचं होती है। इसकी चोचं मुड़ी हुई होती है।

(4) तोता की गर्दन पर लाल रंग एवं काले रंग के वृत्त होते हैं।

(5)  तोते एक बेहत आकर्षित एवं सुंदर पक्षी होता है।

(6) तोता कई रंग के होने हैं किंतु उनके अडं पूरे सफेद रंग के ही होते हैं।

(7) तोता की औसली उम्र 15 से 20 साल के बीच होते हैं।

(8) तोता एकमात्र ऐसा पक्षी है जो अपने पंजे से अपने मुंह में खाना पहुंचा सकता है।

(9) तोता सामान्यतया पेड़ों के बिल में निवास करता है।

(10) दुनिया में 350 से भी ज्यादा प्रजाति के तोते पाए जाते हैं

 

Information About Panda in Hindi – पांडा के बारे में जानकारी

About Panda in Hindi

About Panda in Hindi

पांडा दुनिया की सबसे खूबसूरत जीवो में से एक है। यह एक शांत प्रकृति के जीव है इसीलिए ज्यादातर लोग पांडा को पसंद करते हैं, 2007 के आंकड़े की हिसाब 239 पांडा चीन में रहते हैं और 27 पांडा चाइना से बाहर रहते हैं।

यह दुर्लभ जीव दिन भर दिन जंगलों की अवैध तरीकों से काटने और विनाश के कारण विलुप्त होते जा रहे हैं। 2014 की एक आखिरी के हिसाब से चीन के बाहर सिर्फ 49 पांडे ही बचे हैं जोकि 13 भिन देशों में पाया जाता है।

पांडा एक शाकाहारी जीव है 99% पांडा बांस खाना पसंद करते हैं इसीलिए ज़्यादातर पांडा बास के जंगलों में पाया जाता है। पांडा चीन के बर्फीले पहाड़ सियाचिन और धांसू में पाया जाता है।

About Panda in Hindi

About Rose Flower in HindiAbout Crocodile in HindiAbout Brahmaputra River in Hindi

Information About Panda in Hindi Language

पांडा शब्द नेपाली भाषा के पुण्य शब्द से आया है – इस शब्द का अर्थ है बास खाने वाले जानवर। पांडा देखने में बहुत ही खूबसूरत और आकर्षक होता है इनका शरीर का रंग काला और सफेद होता है, इनकी आंखों पर काले रंग की गैर होते हैं और शरीर लंबे बालों से ढका हुआ होता है।

आकर के मामले में एक पांडा लगभग 4 से 6 फीट तक लंबे होते हैं। इनकी पूंछ के आकार लगभग 10 से 15 सेंटीमीटर होता है और इनका भजन 100 से 115 केजी होता है।

Aamazing Facts About Panda in Hindi

पांडा के ऊपर बहुत सारी रोचक बातें हैं जो जानना बहुत ही आवश्यक है, नीचे पांडा के बारे में कई सारे रोचक बातें पंजीयन क्या है-

1) क्या आप जानते हैं पांडा के असली मालिक चीन है चाहे वह दुनिया की किसी भी देश में हो।

2) क्या आपको पता है दुनिया में सिर्फ दो हजार पांडे ही बचे हैं और यह  विलुप्त होने की कगार पर पहुंच गई है इसीलिए कई सारे देशों में पांडा को संरक्षण किया जा रहा है।

3) पांडा बास खाना बहुत ही ज्यादा पसंद करते हैं इसीलिए 99% पांडा बास खाते हैं और बास के जंगलों में ही इन्हें पाया जाता है।

4) एक पांडा दिन में लगभग 30 से 40 बास अकेले खा सकता है।

5) सफेद और काले रंग की पांडा असल में एक पांडा नहीं भालू है।

6) एक पांडा लगभग 20 साल तक जिंदा रह सकता है।

7) एक पांडा अपने जीवन का लगभग 55% समय डांस खोजने में और खाने में बिताता है।

8) पांडा धरती पर 2 से 3 मिलियन वर्ष से रहते आ रहे हैं।

9) एक पांडा को जिंदा रहने के लिए 3 से 4 वर्ग माइल्स जगह का जरूरत होता है।

 

Finally, i hope you like the article About Panda in Hindi and shared with your Friends