Importance of Trees in Hindi – वृक्ष का महत्व पर निबंध

Importance of Trees in Hindi

जैसे कि हमें पता ही है कि पूरे ब्रह्मांड में अब तक खोजे गए ग्रहों में से पृथ्वी ही एकमात्र ऐसा ग्रह है, जहां जीवन रूपी पेड़ और पौधों को पाया जाता है। वृक्ष जीवन के स्तंभ होते हैं। पृथ्वी पर जीवित रहने के लिए हवा और पानी जैसे जरूरी तत्व का अति आवश्यक होता है, जो हमें पेड़ के द्वारा ही प्राप्त होता है।

पेड़ के बिना धरती पर जीवन नामुमकिन है। पेड़ के प्रत्येक हिस्सा जीवो को कुछ ना कुछ जरूर देता है। इसका तना, पत्तियां, फूल, फल, जड़ इत्यादि सब मनुष्य जाति के लिए उपयोगी होते हैं। वृक्ष बंदर, तोता, गोरेया, जैसे जीवो का आवास स्थान भी है। मनुष्य जीवन के लिए आवश्यक संसाधनों की पूर्ति भी वृक्ष ही करता है।

Importance of Trees in Hindi Language (About Trees in Hindi)

आज लगाया गया पौधा कल वृक्ष बनता है जो आने वाली पीढ़ियों को फायदा देता है। पैरों के द्वारा हमें हवा, पानी, भोजन, लकड़ी, चारा जैसी बहुमूल्य चीजें प्राप्त होती है। लकड़ी के रूप में इंधन पेड़-पौधे ही देते हैं। जीवो के द्वारा छोड़ी गई कार्बन डाइऑक्साइड को ग्रहण करके पेड़ पौधे प्राणवायु ऑक्सीजन को छोड़ते हैं। यह हमें इतना कुछ दे कर भी बदले में हमसे कुछ भी नहीं लेते हैं। फिर भी मनुष्य लालच में आकर इनको काट देता है। इस प्रकार के व्यक्ति को हमें रोकना चाहिए। एवं उसके बदले में प्रत्येक मनुष्य को एक पेड़ लगाना चाहिए, और उसकी देखभाल करनी चाहिए।

धर्म शास्त्रों में वृक्षारोपण को पुण्य दाई कार्य बनाया गया है। इसका कारण यह है कि वृक्ष धरती पर जीवन के लिए बहुत ही आवश्यक है। हम देख सकते हैं कि भारतवर्ष में आदि काल से ही लोग तुलसी, पीपल, केला, बरगद, आदि पेड़ पौधों को पूजते आए हैं। आज विज्ञान सिद्ध कर चुका है कि यह पेड़ पौधे हमारे लिए कितने महत्वपूर्ण हैं।

वृक्ष पृथ्वी को हरा भरा बनाकर रखता है। जिन स्थानों में पेड़ पौधे पर्याप्त संख्या में होते हैं वहां निवास करना भी आनंददाई प्रतीत होती है। इसके अलावा भी पेड़ छाया प्रदान करती है। इनकी ठंडी छाया में मनुष्य एवं पशु विश्राम कर आनंदित होते हैं। यह यात्रियों को सुखद छाया उपलब्ध कराते हैं। ऋषि मुनि भी वनों में रहकर अपने जीवन यापन की सभी आवश्यक वस्तुएं पैरों से ही प्राप्त कर लेते थे।

जैसे-जैसे सभ्यता बड़ी, लोग पैरों को काट कर उनकी लकड़ी से घर के फर्नीचर बनाने लगे, उद्योगों का विकास हुआ तो कागज, दियासलाई, रेल के डिब्बे आदि बनाने के लिए लोगों ने जंगलों को साफ कर दिए। जिस कारण जीवन उपयोगी वस्तुओं का अकाल पढ़ने लगा। साथ ही साथ पृथ्वी की हरीतिमा भी घटने लगी।

Importance of Trees in Hindi

Importance of Discipline in Hindi | About Moon in Hindi | About Hen in Hindi

Essay on Importance of Trees in Hindi

पेड़ की अत्याधिक कटाई को रोकने के लिए जन जागरूकता की आवश्यकता है। आमजन में पैड़ को बचाने के लिए संदेश जाना चाहिए। लोगों को ज्यादा से ज्यादा पेड़ लगाना चाहिए, पैड़ के महत्व को स्कूली शिक्षा में भी शामिल करना चाहिए, जिससे बच्चों में वृक्ष के प्रति जागरूकता बड़े, पैड़ की अतिरिक्त कटाई पर कानून लाना भी जरूरी है। बिना किसी ठोस वजह के अतिरिक्त पैर को काटना नहीं चाहिए। अगर फिर भी पेड़ काटना पड़े तो उसके बदले में दो पेड़ और लगाने चाहिए।

वृक्षों का संरक्षण जरूरी है। इसीलिए पेड़ लगाइए और पुण्य कमाइए। हरी-भरी खुशहाल जीवन से भरी धरती पेड़ पौधों पर ही निर्भर है। वृक्षों के बिना जीवन की कल्पना असंभव है। इसीलिए पेड़ की कटाई पर रोक लगाना अनिवार्य है।

10 Lines on Importance of Trees in Hindi

1) पेड़ हमें फल देते हैं, आम, अनार, अंगूर, पपीता, सेब जैसे गुणकारी फल पेड़ पौधे से ही प्राप्त होते हैं, इसके अलावा भी गेहूं दाल जैसे अनाजों को कृषि करके पौधों से ही प्राप्त किया जाता है।

2) पेड़ पौधों पर फूल भी लगते हैं जो धरती पर मनमोहक छटा बिखेरते हैं , जैसे गुलाब, कमल, गेंदा, आदि आकर्षित फूल मन को मोह लेते हैं।

3) पेड़ पौधों को विश्व में कई जगह पर पूजा भी जाता है, खासकर भारत में पीपल, तुलसी जैसे पेड़ पौधों को पवित्र मानकर पूजा जाता है। कई प्रकार के पेड़ पौधों औषधि में भी उपयोग किए जाते हैं। नीम तुलसी आमला जैसे पौधे औषधि के रूप में काफी उपयोग किए जाते हैं।

4) पेड़ पौधों मृदा अपरदन को रोकते हैं। मिट्टी के कटाव को कम करते हैं। पेड़ पौधे तपती गर्मी में धूप को रोककर छांव देते हैं। जीव जंतु पैड़ की छांव में ही आराम करते हैं।

5) वृक्षों के द्वारा ही धरती पर वर्षा होती है। जिससे कृषि और घरेलू कार्य के लिए पानी का इंतजाम होता है।

6) पेड़ वायु प्रदूषण, ध्वनि प्रदूषण को कम करके जीवो पर उपकार करते हैं। पेड़ पौधे लकड़ी भी प्रदान करते हैं, पेड़ों से प्राप्त लकड़ी से कई प्रकार के सामग्री बनाया जाता है। इंधन के लिए लकड़ी भी पेड़ों से ही प्राप्त होती है।

Hindi Essay on Importance of Trees in Our Life

1) पेड़ पौधों की अत्याधिक कटाई के पीछे का कारण जनसंख्या में अधिक बढ़ोतरी को माना जाता है। पेड़ों की घटती संख्या में प्रकृति का संतुलन गड़बड़ाने लग गया है। जीवो की कई प्रजातियां पैरों पर ही निर्भर होते हैं पक्षी पैरों पर ही अपना घोंसला बनाते हैं, उनका आवास पेड़ों तक ही सीमित रहता है। जीवो का यह आवास धीरे धीरे खत्म हो रहा है जिससे कई प्रजातियां विलुप्त होती जा रही है।

2) वृक्ष की कमी से वातावरण में दूषित गैस में बढ़ोतरी होती जा रही है। वायु प्रदूषण भी इसी के कारण ही होता है।

3) वृक्ष नहीं होने से मिट्टी का कटाव अत्याधिक होता है जिसमें बाढ़ आने का खतरा बढ़ जाता है ! सूखा पड़ना या अकाल आना भी काफी हद तक पेड़ों पर ही निर्भर करता है। क्योंकि पेड़ ही वर्षा के कारण होते हैं।

4) मिट्टी उपजाऊ नहीं रहती है क्योंकि मिट्टी में मिलने वाली पैरों की पेत्तियां और लकड़ी मिट्टी की उर्वरता बढ़ाती है। कम पेड़ होने से मिट्टी की उर्वरता कम होती जा रही है। रेगिस्तान की सीमा में इजाफा हो रहा है, यह एक बड़ी ही चिंता का विषय है।

5) पेड़ पौधों की अतिरिक्त कटाई से पृथ्वी पर ग्लोबल वार्मिंग की समस्या भी उत्पन्न हो गई है। पृथ्वी के तापमान में अत्यधिक बढ़ोतरी हुई है जिससे कई बड़े ग्लेशियर पिघलने लगे हैं। महासागरों के जल में भी बढ़ोतरी हुई है, ओजोन परत को भी काफी नुकसान हुआ है।

इसी कारण हमें पेड़ को बचाना चाहिए और वनों की कटाई को रोकना चाहिए, पेड़ बचाओ पेड़ लगाओ जीवन को स्वस्थ बनाओ, यही धर्म सभी को पालन करना चाहिए।

तो दोस्तों पेड़ों का महत्व पर निबंध (Importance of Trees in Hindi) आपको कैसा लगा। पेड़ों के निबंध पर आपका विचार सर्वोपरि है। यह आर्टिकल पसंद आया हो तो इस पोस्ट Importance of Trees in Hindi को शेयर जरूर करें।

धन्यवाद –

Banyan Tree Information in Hindi – बरगद वृक्ष के बारे में जानकारी

Banyan Tree Information in Hindi

 About Banyan Tree in Hindi

बरगद का पेड़ एक भारतीय मूल का पेड़ है। इसीलिए भारत की ज्यादातर इलाकों में बरगद के पेड़ पाया जाता है। यह पेड़ भारत की विशाल पैरों में से एक है बरगद का पेड़ आकार मैं बहुत ही बड़े होते हैं।
बरगद के पेड़ का जीवन काल बेहद ही लंबे होते हैं। यह पेड़ जितना ज्यादा पुराना होती है इसकी दालों में से एक प्रकार का पतले जेरे निकलती है जो कि इस पेड़ को दूसरे पैरों से अलग करता है और लोगों को अपने पति आकर्षित करता है एक पुराना और वयस्क बरगद का पेड़ देखने में बेहद सुंदर होता है।
Banyan Tree Information in Hindi

Banyan Tree Information in Hindi

बरगद का पेड़ भारत का राष्ट्रीय पर्व है क्योंकि यह हमारे देश भारत से पौराणिक काल से जुड़ा हुआ है और हिंदू धर्म में भी बरगद का पेड़ बहुत ही महत्वपूर्ण है। हिंदू धर्म में मान्यता है कि बरगद पैर में भगवान निवास करते हैं इसीलिए इस पेड़ को देव देवियों का पीर भी कहा जाता है।
 बरगद की नीचे की भगवान श्री कृष्ण विश्राम करते थे और अपनी मधुर मुरली की सुरीली सुर से सभी का दिल बहलाते थे इसी पेड़ के नीचे भगवान बुद्धदेव अपनी भी ज्ञान प्राप्त किए थे और इसी पेड़ के नीचे बैठकर बे ध्यान करते थे बरगद कि पेड़ की इतनी सारी विशेष ताऊ के कारण ही यह पेड़ हिंदू धर्म में बेहद ही महत्वपूर्ण है और इसीलिए यह भारत का राष्ट्रीय पर कहां जाता है।
बरगद के पेड़ को  विशाल ताकतवर और मजबूत की  प्रतीक भी माना जाता है। क्योंकि बरगद का बड़ा आकार सबसे विशाल और सबसे बड़ा होने को दर्शाता है। इसका बड़े-बड़े जड़ इस पेड़ को सबसे ताकतवर बनाता है और बरगद के मोटे डालिया और फैलाव आकार स्कोर सबसे ज्यादा मजबूत बनाता है।
 बरगद दुनिया की सबसे ज्यादा फैलाव पैरों में सीखें एक है दुनिया के सबसे बड़े बरगद का पेड़ भारत की आंध्र प्रदेश में है जो कि लगभग 4.7 जाएगा गिरा हुआ है और यह अकेले पेड़ 20000 से भी ज्यादा लोगों को छाया दे सकती है।

Information About Banyan Tree in Hindi

  • भारत की स्वाधीनता आंदोलन के दौरान अंग्रेजों ने हजारों वीरों को बरगद की पेट में फांसी की सजा दिए थे।
  • बरगद एक पवित्र पीर है इसीलिए भगवत गीता में भी इसकी कई बार उल्लेख मिलती है।
  • भारतीय स्टेट बैंक ऑफ इंडिया की सबसे पहली प्रतीक चिन्ह में बरगद का पेड़ था जो कि बाद में जाकर परिवर्तन कर दिया गया।
  • दुनिया की सबसे बड़ी बरगद का पेड़ भारत की आंध्र प्रदेश में है।
  • बरगद की इतनी सारी विशेषताओं के कारण ही यह भारत का राष्ट्रीय पर कहा जाता है।
  • हिंदू धर्म के अनुसार बरगद एक पवित्र पीर है इसीलिए यह देव देवियों का फिर भी कहा जाता है।
  • भारत और हिंदू धर्म के साथ बरगद के पेड़ का इतने सारे संबंध के कारण ही भारत में इसी पूजा जाता है।
  •  हजारों साल पहले से ही आयुर्वेदिक दवाइयों में बरगद का पेड़ ने बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका रखा है।
  • यह पेड़ जितना ज्यादा व्यस्त होता है इसकी डाली उसे एक प्रकार का पतली डा जड़े निकलना शुरू हो जाती है जो कि इस पेड़ को दूसरों से अलग करता है।
  • बरगद एक भारतीय मूल का पेड़ है जो कि भारत के साथ-साथ अन्य कई देशों में जैसे पाकिस्तान बांग्लादेश श्रीलंका में भी पाया जाता है।

Finally i hope you you like the article Banyan Tree Information in Hindi

If You like then share the post Banyan Tree Information in Hindi with your friends.

About Neem Tree in Hindi – नीम के पेड़ के उपयोग और स्वास्थ्य लाभ

About Neem Tree in Hindi

नीम एक औषधि  पेड़ है । यह भारतीय आयुर्वेदिक में एक बहुत ही महत्वपूर्ण पेड़ है। भारत में ऋषि महर्षि के काल में भी वे लोग विभिन्न दवाई तैयार करने के लिए नीम का उपयोग करते थे। नीम सिर्फ दवाइयों मेही नहीं  बल्कि कई सारे फायदे प्रदान करती है।

पौराणिक काल की ऋषि मुनियों का माने तो, हर घर में एक नीम का पेड़ होना बहुत ही आवश्यक होता है। क्योंकि नीम हमारी आसपास की हवाओं को साफ रखती है और इसके साथ साथ नीम का कई सारे औषधिक फायदे भी है।

Neem Tree Information in Hindi

आपने कहीं ना कहीं नीम के पेड़ के बारे में तो सुना ही होगा। इस आर्टिकल में हम आपको नीम के ऊपर पूरी जानकारी देने की कोशिश करेंगे आशा करते हैं कि आपको पसंद आएगा।

दोस्तों क्या आपको पता है की नीम केवल मेडिसिन बनाने में ही उपयोग नहीं नहीं होता, इसकी कई सारे और भी फायदे हैं आप अपने घर में भी इसका इस्तेमाल कर सकते हैं।

जैसे कि अगर आप नीम की डंडी से सुबह अपने दांत साफ करते हैं तो आप की दांत काफी मजबूत हो जाती है और अगर आपको खुजली की बीमारी है, तो पानी के साथ नीम की पत्तियों को उबालें के नहाने से आपकी खुजली की बीमारी दूर हो जाती है। इसी तरह नीम हमारी दैनिक जीवन की कई छोटे बड़े बीमारी से दूर रखती है।

About Neem Tree in Hindi

About Lotus in Hindi

About Neem Tree in Hindi Language

नीम एक भारतीय मूल का औषधीय पेड़ है। इसका साइंटिफिक नाम है Azadirachta indica, यह पेड़ सिर्फ 5 से 10 साल के अंदर ही 20 से 40 मीटर तक का ऊंचा हो जाता है। नीम को आयुर्वेदिक दवाइयों का एक अंश कहा जाता है। यह पेड़ ज्यादातर गांव में पाई जाती है, इसीलिए इसको गांव का हॉस्पिटल (hospital of village) भी कहा जाता है। नीम का इतनी सारी औषधि गुणों के कारण इसको सोने का पेड़ भी कहा जाता है।

नीम का पेड़ की हर भाग मेडिसिन बनाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

Neem Plant Information in Hindi

नीम भारत के साथ कई सारे देश जिसे बांग्लादेश, पाकिस्तान, श्रीलंका आदि देशो में भी पाया जाता है। यह पेड़ ज्यादातर ट्रॉपिकल और सेमी ट्रॉपिकल इलाके में पाया जाता है।

Importance of Neem Tree in Hindi

स्किन के कई सारे बीमारियों में नीम का तमाल किया जाता है। इसीलिए कई सारे कंपनी नीम का साबुन भी प्रोडक्शन करती है। नीम हमारी हिंदू शास्त्र और उत्सवों के साथ जुड़ा हुआ है। इसीलिए हमारी हिंदू शास्त्र में नीम का एक महत्वपूर्ण स्थान है।

About Lion in Hindi

Benefits of Neem Tree in Hindi – ( About Neem Tree in Hindi )

Dandruff: जब तक पानी हरा न हो जाए तब तक नीम के पत्तों का एक गुच्छा उबालें, इसे ठंडा करने दें। शैम्पू के साथ अपने बालों को धोने के बाद, इसे इस पानी से साफ करें।

Ear ailments: कुछ नीम के पत्तों को मिलाएं और इसमें कुछ शहद जोड़ें। किसी भी कान फोड़े के इलाज के लिए इस मिश्रण की कुछ बूंदों का प्रयोग करें।

Skin disorders: नीम के पत्तों के पेस्ट के साथ हल्दी को खुजली, एक्जिमा, अंगूठी कीड़े और कुछ हल्की त्वचा रोगों के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

Boost immunity: कुछ नीम के पत्तों को क्रश करें और अपनी प्रतिरक्षा बढ़ाने के लिए उन्हें एक गिलास पानी के साथ ले जाएं।

Eye Trouble: कुछ नीम के पत्तों को उबालें, पानी को पूरी तरह ठंडा कर दें और फिर अपनी आंखों को धोने के लिए इसका इस्तेमाल करें। इससे किसी प्रकार की जलन, थकावट या लाली में मदद मिलेगी।

 

Finally, I hope you like the article About Neem Tree in Hindi and if you have any questions regarding this topic About Neem Tree in Hindi then simply comment below.