Christmas Essay in Hindi – क्रिसमस पर निबंध

दोस्तों, आज हम बात करने वाले हैं क्रिसमस के बारे में। आज के इस लेख में, मैं आपको ईसाई धर्म के सबसे बड़े त्योहार क्रिसमस पर निबंध लिखकर इसके विषय में विस्तार से आप सभी को इसके महत्व एवं सुखी पूर्ण भावना का आनंद देने की आशा करती हूं।  तो चलिए नीचे लिखे गए शब्द को पढ़कर हम क्रिसमस के बारे में जान लेते हैं।

Paragraph on Christmas in Hindi

‘क्रिसमस’ ईसाईयों का प्रसिद्ध त्योहार है। य 25 दिसंबर को प्रतिवर्ष संपूर्ण विश्व में धूमधाम से मनाया जाता है ! और बच्चे तो क्रिसमस का बेसब्री से इंतजार करते रहते हैं। वह मानते हैं सांता आएगा और उन लोगों के लिए ढेर सारा गिफ्ट लाएगा। क्रिसमस का त्योहार ईसाई मसीह के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है। इस दिन को ‘ बड़ दिन ‘ भी कहा जाता है ! क्रिसमस एक बड़ा त्योहार है जिसे लोगों द्वारा ठंड के मौसम में मनाया जाता है। इस दिन पर सभी सांस्कृतिक अवकाश का लुप्त उठाते हैं ! तथा इस अवसर पर सभी सरकारी एवं गैर सरकारी संस्थानों को बंद रखा जाता है।

इस उत्सव को लोग बहुत उत्साह और ढेर सारी तैयारियों तथा सजावट के साथ मनाते हैं। नए नए कपड़े खरीदे जाते हैं। ईसाई लोग क्रिसमस के दिन विभिन्न प्रकार के व्यंजन भी बनाते हैं। इसके अलावा भी बाजारो की रौनक भी बढ़ जाती है। घर और बाजार रंगीन रोशनीओं से जगमग उठते हैं।

क्रिसमस के दिन गिरजा घरों में विशेष प्रार्थना है की जाती है एवं जगह-जगह प्रभु ईसा मसीहा की झांकियां प्रस्तुत की जाती है। उस दिन घर के आंगन में क्रिसमस ट्री भी लगाया जाता है। क्रिसमस के त्योहार में केक का विशेष महत्व होता है। इस दिन लोग एक दूसरे को केक खिलाकर त्यौहार की बधाई देते हैं। और तो और सांता क्लॉस का रूप धरकर व्यक्ति बच्चों को टॉफिया, विभिन्न प्रकार के उपहार आदि भी बांटता है।

Christmas Essay in Hindi

National Emblem of India in Hindi  | Soil Pollution in Hindi | Essay on Rabbit in Hindi Language 

Christmas Essay in Hindi in 300 Words

क्रिसमस शब्द अंग्रेजी दो शब्दों से मिलकर बनाया गया है, Christ और mass जिसमें Christ का मतलब ‘ क्रिस्टियन’ और mass का मतलब ‘ लोग ‘ होता है। ईसाई समुदायों के लिए क्रिसमस एक महत्वपूर्ण त्योहार है। हालांकि यह पूरी दुनिया में दूसरे धर्मों के लोगों द्वारा भी मनाया जाता है। य एक प्राचीन उत्सव है जिसको बरसों से ही शीत ऋतु में मनाया जाता है। यह प्रभु यीशु के जन्मदिवस पर मनाया जाता है। जिन्हें ईसाई धर्म के लोगों द्वारा भगवान की संतान माना जाता है। उस दिन पारिवारिक सदस्यों में सभी को सांता क्लॉस के दादा मध्य रात्रि में उपहार बांटने की परंपरा भी शामिल होती है।

सांता रात के समय सभी के घरों में जाकर उनको उपहार बांटता है। खासतौर से बच्चों को वह मजेदार उपहार देता है। तब बच्चे बड़ी ही व्याकुलता से संता का और इस दिन का इंतजार करता रहता है। एवं वह अपने माता पिता से पूछते हैं कि कब शांत आएगा और उन्हें तोहफा देगा और उसी बीच बच्चों का इंतजार खत्म होता है एवं ढेर सारे उपहारों के साथ सांता मध्य रात्रि को 12:00 बजे के आसपास आता है एवं उपहार दे कर चला जाता है।

Information About Christmas in Hindi

क्रिसमस के त्योहार में एक परंपरा है कि लोग उस दिन अपने दोस्तों और रिश्तेदारों को सुंदर ग्रीटिंग कार्ड भेजते हैं, और उसके बदले में भेजने वालों को भी ग्रीटिंग कार्ड दिया जाता है। प्रत्येक परिवार के लोग और दोस्त एक साथ मिलकर रात के दावत में शामिल होते हैं।

इस पर्व में मिठाइयां, चॉकलेट, ग्रीटिंग कार्ड, क्रिसमस पेड़, सजावटी वस्तुएं आदि, पारिवारिक सदस्य, दोस्तों, रिश्तेदारों, और पड़ोसियों को देने की परंपरा माना गया है। लोग तो पूरे जुनून के साथ महीने की शुरुआत में ही इसकी तैयारियों में जुट जाते है। इस दिन को लोग गाने गाकर, नाच कर, पार्टी मना कर एवं अपने प्रिय जनों से मिलकर आनंद उपभोग करते हैं। इसके अलावा लोगों का ऐसा मानना है कि प्रभु ईशा को मानव जाति की रक्षा के लिए ही धरती पर भेजा गया है।

दुनिया भर में क्रिसमस के बारे में जानने के लिए बहुत कुछ है। पूरी दुनिया में क्रिसमस, युवा और वृद्ध लोगों द्वारा प्यार किया जाने वाला एक विशेष और जादुई अवकाश माना जाता है। इसी तरह से ही क्रिसमस का त्योहार लोगों को सब के साथ मिलजुल कर रहने का संदेश देता है। ईशा मसीह कहते थे कि दिन- दुखियो की सेवा करना संसार का सबसे बड़ा धर्म होता है।

Christmas Essay in Hindi in 500 Words

जैसे कि आगे भी हमने पढ़ा था कि ईसाइयों के लिए क्रिसमस एक बहुत महत्वपूर्ण त्यौहार होता है, हालांकि इसे दूसरे धर्मों के लोग भी बड़े उल्लास के साथ मनाते हैं। इस उत्सव को हर साल पूरे विश्व में दूसरे उत्सवों की तरह ही खुशी, हर्ष और जोश के साथ मनाया जाता है। यह हर साल 25 दिसंबर शीत ऋतु के मौसम में आता है। प्रभु यीशु के जन्म दिवस के अवसर पर क्रिसमस डे को मनाया जाता है। 25 दिसंबर को प्रभु यीशु का जन्म हुआ था। उनके पिता के नाम जोसेफ, और मेरी मां का नाम था। उनके जन्म बेथलेहम में हुआ था।

क्रिसमस को क्यों मनाया जाता है ?

क्रिसमस यीशु मसीहा के जन्म का उत्सव है। कुछ लोग क्रिसमस को अलग अलग तरीके से मनाते हैं। लेकिन यह सब मसीहा के जन्म पर ही आधारित होता है। क्रिसमस 25 दिसंबर को होती है। यह वह दिन है जब यीशु का जन्म हुआ था। लेकिन कोई भी वास्तव में यीशु की जन्म तिथि को सटीक तारीख क्या है नहीं जानता है। फिर भी, 137 सदी में रूम के बिशप ने क्राइस्ट बच्चे के जन्मदिन को एक गंभीर दावत के रूप में मनाया जाने का आदेश दिया था। 350 सदी मैं जूलियन प्रथम नाम का एक और रोमन बिशप 25 दिसंबर को क्रिसमस ( मसीहा की मास ) के पालन दिवस के रूप में 25 दिसंबर को ही चयन करता है।

क्रिसमस की सजावट कैसे की जाती है ?

इस दिन पर सभी घर और चर्च की सफाई किए जाते हैं। सफेद पुताई और ढेर सारे रंग बिरंगे रोशनीयो, मोमबत्तियां, फूल और दूसरी सजावटी चीजों से इनको सजाया जाता है। सभी एक साथ इस उत्सव में शामिल होते हैं। चाहे वह गरीब हो या फिर अमीर। और खूब धमा चौकड़ी के साथ इसको मनाया जाता है।

अपने घरों के बीच में सभी क्रिसमस के पेड़ को सजाते हैं। वह इसे इलेक्ट्रिक लाइट, उपहारों, गुब्बारों, फूलों, खिलौना, हरी पत्तियां एवं दूसरे वस्तुओं से सजाते हैं। क्रिसमस का पेड़ बेहद सुंदर और आकर्षित दिखाई देता है। उस अवसर पर सभी लोग अपने दोस्त, परिवार, रिश्तेदार और पड़ोसियों के साथ क्रिसमस के पेड़ के सामने खुशी मनाते हैं। एवं सभी नृत्य, संगीत, उपहारों को बांटकर एवं लजीज पकवानों के साथ इस उत्सव में शरीक होते हैं।

क्रिसमस ट्री ( Christmas in Hindi )

क्रिसमस का त्योहार बिना क्रिसमस ट्री के बगर कभी भी पूरा नहीं हो सकता है। क्रिसमस ट्री सजाने की यह प्रथा काफी लंबे समय से ही चली आ रही है, क्रिसमस ट्री को यीशु का प्रतीक चिन्ह माना जाता है। क्रिसमस ट्री के रूप में प्राकृतिक रूप से देवदारु के पेड़ों का उपयोग किया जाता है। इस दिन लोग क्रिसमस ट्री को तमाम तरह के सितारों, गुब्बारे, झालरों, और तोहफा आदि से सजाते हैं। ऐसा माना जाता है कि क्रिसमस ट्री हमारे अंदर सकारात्मक ऊर्जा का संचार करता है और नकारात्मक तथा बुराइयों को दूर करता है।

सांता क्लॉस ( Santa Claus in Hindi )

सांता क्लॉस या संत निकोलस क्रिसमस का एक अभिनना हिस्सा होता है। ऐसा माना जाता है कि सांता क्लॉज़ 7 हीरोइनो द्वारा खींचे जाने वाले बे पहिया गाड़ी पर सवार होकर आते हैं और क्रिसमस पर बच्चों को तोहफा बढ़ते हैं। इसीलिए इस त्यौहार को लेकर बच्चे काफी उत्साहित रहते हैं। इस दिन कई सारे लोग सांता क्लॉस का कपड़ा धारण करके बच्चों में चॉकलेट और तोहफे बांटते है।

Lines on Christmas in Hindi

1) क्रिसमस का त्योहार व्यापारियों के लिए सबसे ज्यादा मुनाफा वाला समय होता है।

2) एक पुस्तक के अनुसार क्रिसमस के पेड़ की शुरुआत सन 1570 में किया गया था।

3) क्रिसमस के पर्व के लिए प्रतिवर्ष यूरोप में 60 लाख पेड़ उगाए जाते हैं।

क्रिसमस वह त्योहार है जो लोगों में प्यार मोहब्बत और भाईचारा बढ़ाता है। यही कारण है कि लोग क्रिसमस के त्योहार के एक दिन पहले ही 24 दिसंबर के शाम से ही एक दूसरे को क्रिसमस की शुभकामनाएं देना शुरू कर देते हैं। यह वह समय होता है जब लोग अपने दोस्तों और परिवारों से मिलते हैं। तथा अपने आपसी प्यार मोहब्बत और एकता को बढ़ाते हैं। क्रिसमस का यह त्यौहार हमें ईशा मसीहा द्वारा दिखाए गए क्षमा, भाईचारा और त्याग जैसी बातों का बोध कराता है , जिन्हें हम अपने जीवन में अपनाकर मानवता को तरक्की के पथ पर अग्रषित कर सकते हैं।

हम आशा करते हैं कि हमारे द्वारा लिखा गया Christmas Essay in Hindi को पढ़कर आप पसंद करेंगे। अगर आपको Christmas Essay in Hindi अच्छा लगा हो तो अपने सोशल मीडिया पर शेयर जरूर करें और कमेंट के माध्यम से हमें जरूर बताएं।

धन्यवाद

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *