Essay on Earth in Hindi Language – पृथ्वी बचाओ पर निबंध

Essay on Earth in Hindi

आज हम बात करने वाले हैं पृथ्वी के बारे में। जिसको हम सभी धरती मां के नाम से भी जानते हैं। तो चलिए नीचे इसके विषय में हम आपको कुछ बातें बताते हैं।

Essay on save Earth in Hindi in 200 Words

पृथ्वी यानी धरती मां  जोकि सौर्य मंडल की सबसे सुंदर ग्रह है। जहां तक हम जानते हैं कि, पृथ्वी एकमात्र ऐसे ग्रह है जहां पर जीवन होते हैं। आज से करीब 500 साल पहले की बात की जाए तो, मनुष्य का पृथ्वी के साथ अच्छे संबंध थे। लेकिन जब से इंसानों ने शहर और उद्योगों का विकास किया है , सबसे आधुनिक जीवन शैली में परिवर्तन ला दिया है। मनुष्य सीमा तक प्राकृतिक संसाधनों का उपयोग कर रहा है। साथ ही साथ उनका दुरुपयोग भी कर रहा है। जैसे कच्चे तेल और कोयले की तलाश में जंगलों को नाश कर रहा है। जिस वजह से जंगली जानवर भी गायब होती नजर आ रही है।

और तो और धीरे-धीरे हमारे पर्यावरण भी पूरी तरह से प्रदूषित होती नजर आ रही है। जिस कारण हम प्रदूषित पानी पीने के लिए मजबूर हो गए। धूल से भरा हवा में भी श्वास लेते हैं, और कीटनाशकों एवं अन्य जलीय रसायनों के साथ भोजन भी खाते हैं। इसलिए हम विभिन्न रोगों से भी पीड़ित होते हैं। मानव गतिविधियों के परिणाम स्वरूप ओजोन परत पर एक छेद होती जा रही है, जिस कारण समुद्र के जल धीरे धीरे बढ़ता जा रहा है। और अंटार्कटिका एवन ग्रीनलैंड के बर्फ भी धीरे-धीरे पिघलने लगे हैं। ग्लोबल वार्मिंग हमें चेतावनी देकर यह कह रही है कि, यह आने वाला विपत्ति का संकेत दे रहा है, इस से साफ पता चलता है कि हमारा धरती अब खतरे में पड़ रहा है।

अतः हमें ही ध्यान रखना होगा कि पृथ्वी हमारी धरोहर है और इसको संभाल कर रखना हम सभी का फर्ज बनता है। यदि हमारी पृथ्वी सुरक्षित रहेगी तभी हम सभी भी सुरक्षित रह पाएंगे और यह भी याद रखना आवश्यक है कि हमारे पृथ्वी पर पाए जाने वाली सभी वस्तुएं सीमित परिमाण में है। जिस कारण इन वस्तुओं को हमें सोच समझ कर ही प्रयोग करना चाहिए।

Essay on Earth in Hindi

Essay on Mobile Phone in Hindi | Essay on GST in Hindi | Essay on Bhartiya Sena in Hindi

Essay on save Earth in Hindi in 500 Words

जैसे कि हम सभी जानते हैं, पृथ्वी हमारी माता है, जो हमें हमारे जीवन के लिए सभी अवश्यकिय वस्तुएं प्रदान करती है। इसलिए, हम इसका प्रकृति गुणवत्ता और हरे-भरे वातावरण को बनाए रखने के लिए भी जिम्मेदार है। हमारी छोटी सी लाभ के हेतु इसकी प्राकृतिक संसाधनों को बर्बाद और प्रदूषित करना नहीं चाहिए।

एक मनुष्य होने के नाते, हमें प्रदूषण और ग्लोबल वार्मिंग को कम करने वाली गतिविधियों में शक्ति से शामिल होना चाहिए। तभी हम पृथ्वी पर रहने वाले जीव जगत को बचाने हेतु सक्षम हो सकते हैं।

* पृथ्वी बचाओ अभियान की आवश्यकता क्यों है? आइए इस बारे में भी जान ले ।

निरंतर बढ़ती हुई तापमान, ध्रुवीय क्षेत्र की बर्फ के पिघलने , सुनामी, बाढ़, और सूखे के बढ़ते हुए खतरों से पृथ्वी को बचाना तत्कालीन अनिवार्य कार्य है। हमारी धरती माता की स्थिति दिन प्रतिदिन गिरती जा रही है। जिस कारण स्वास्थ जीवन बिताने की अवसर कम होती जा रही है।

पृथ्वी में जीवित रहने के लिए अवश्यकीय सभी आधारभूत तत्व के लिए य महत्वपूर्ण स्रोत है। गलत मानवीय गतिविधियों ने पर्यावरण में बहुत से नुकसान का भी जन्म दिया है, जैसे कि – विषाक्त धोएं, रासायनिक कचरे और अत्याधिक शोर को भी जन्म दिया है। जिस कारण हमारे पृथ्वी धीरे धीरे खतरे में पड़ रहा है।

* पृथ्वी को कैसे बचाया जाए, पृथ्वी को बचाने का कुछ प्रभावित तरीके निम्नलिखित है। (10 lines on save earth)

(1) हमें पानी का बर्बाद नहीं करना चाहिए, और केवल अपनी आवश्यकता के अनुसार प्रयोग करना चाहिए, इसके लिए हमें केवल गंदे कपड़ों को ही पानी में धोना चाहिए। इस तरह से हम प्रतिदिन कई गैलन पानी बचा सकते हैं।

(2) लोगों को निजी कारों का ज्यादा इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। जब उसका जरूरत हो तभी व्यवहार करना चाहिए , इसके अलावा सर्वजनिक परी वाहनोंका ही प्रयोग करना चाहिए। इससे ग्रीन हाउस गैसों की भी उत्सर्जन कम होगी।

(3) स्थानीय क्षेत्र में कार्य करने के लिए लोगों को साइकिल का प्रयोग करना चाहिए।

(4) लोगों को 3R तरीकों से अर्थात रीसायकल, रीयूज, और रीडियोस का पालन करना चाहिए।

(5) हम आम बल्ब के स्थान पर LED प्रकाश वाले बल्ब का प्रयोग करनी चाहिए, जिस कारण इसकी अवधि ज्यादा होती है और बिजली का भी बहुत कम प्रयोग करता है। जो बिजली के प्रयोग और ग्रीन हाउस गैसों के स्तरों को कम करने में सहायक बनेगी।

(6) हमें बिना जरूरत के बिजली के हीटर और एयर कंडीशन का अनावश्यक प्रयोग नहीं करना चाहिए।

(7) हमें समय-समय पर अपने निजी वाहनों की मरम्मत करनी चाहिए और प्रदूषण को कम करने के लिए बेहतर तरीके के साथ ही चलाना चाहिए।

(8) हमें बिजली का प्रयोग भी कम करने के लिए लाइट, पंखों और अन्य बिजली के उपकरणों को बंद कर देना चाहिए।

(9) हमें वनीकरण और दुबारा वृक्षारोपण के माध्यम से जंगल को भी बढ़ाना चाहिए।

इसी प्रकार से पृथ्वी को बचाने के लिए अपने अप्राकृतिक जीवन में अधिक से अधिक बड़े बदलावों को लाने की आवश्यकता होनी चाहिए।

Information About Earth in Hindi

सरकार ने पृथ्वी बचाओ, जीवन बचाओ, और पर्यावरण बचाओ के संदर्भ में पृथ्वी पर स्वस्थ जीवन को निरंतर रखने हेतु बहुत से प्रभावित कदमो को भी उठाया है।

पृथ्वी के बिना पूरे ब्रह्मांड में कहीं भी जीवन संभव नहीं है। मानव को प्रकृति संसाधनों का विनाश करने वाला गतिविधियां पृथ्वी के वातावरण को बहुत बुरी तरीके से प्रभावित कर रही है। इसलिए, यह हमारी स्वयं की जिम्मेदारी है कि हम पर्यावरण के अनुकूल गतिविधियों को अपनाकर पृथ्वी की रक्षा करें।

पर्यावरण प्रोजेक्ट के अंतर्गत पृथ्वी को बचाने के लिए 1970 से हर साल 22 अप्रैल को मनाया जाने वाला दिन को पृथ्वी दिवस के नाम से जाना जाता है। इस प्रोजेक्ट को शुरू करने का मुख्य उद्देश्य यह है कि लोगों को स्वस्थ वातावरण में रहने के लिए प्रस्तावित किया जा सके। और इस प्रोजेक्ट पर हम सभी को योगदान करके पृथ्वी को रक्षा करना चाहिए।

हम आशा करते हैं कि हमारे द्वारा लिखा गया यह निबंध ( Essay on Earth in Hindi )आपको पसंद आया होगा ! अगर आपको Essay on Earth in Hindi लेख पसंद आया हो तो अपने दोस्तों एवं परिवार के साथ शेयर जरूर करें।

( धन्यवाद )

About Shosti Dey

This is Shosti Dey a professional Hindi content writer and I like to write about health, fitness, social etc,

View all posts by Shosti Dey →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *